Akshay Tritiya

सुनहरे लाभ के लिए
बैंक ऑफ़ बड़ौदा के साथ
सॉवरन गोल्ड बॉन्ड में निवेश करें.

हमारी सभी शाखाएं सॉवरन गोल्ड बॉन्ड के लिए अंशदान के स्वीकार करने के लिए प्राधिकृत है.

स्वर्णिम गोल्ड बांड

सावरेन गोल्ड बॉण्ड – 2017-18 श्रृंखला XIV

भारत सरकार द्वारा सावरेन गोल्ड बॉण्ड जारी करने का निर्णय लिया गया है, इस योजना के तहत एसजीबी (“बॉण्ड”) साप्तहिक श्रृंखला में जारी किए जाएंगे जो 09 अक्तूबर 2017 से प्रत्येक सप्ताह सोमवार से बुधवार अभिदान (सब्स्क्रिप्शन) के लिये खुला रहेगा. बॉण्ड जारी करने के लिए नियम एवं शर्तें एवं मुख्य विशेषताएं निम्नानुसार हैं :

निवेश के लिए पात्रता

इस योजना के तहत भारत में निवास करने वाला व्यक्ति, अपने स्वयं के लिए, नाबालिग की ओर से नाबालिग के लिए या किसी दूसरे व्यक्ति के साथ संयुक्त रूप से बॉण्ड धारक हो सकता है. इस बॉण्ड के धारक कोई ट्रस्ट, धर्मार्थ संस्थान या विश्वविद्यालय भी हो सकते हैं. विदेशी मुद्रा प्रबंधन, अधिनियम, 1999 की धारा 2(यू) के साथ पठित धारा 2(वी) के तहत “भारत में निवास करने वाले व्यक्ति” को परिभाषित किया गया है.

प्रतिभूति का स्वरूप

बॉण्ड को सरकारी प्रतिभूति अधिनियम, 2006 की धारा 3 के अनुरूप भारत सरकार के स्टॉक के रूप में जारी किया जाएगा. निवेशक को एक धारिता प्रमाणपत्र फॉर्म सी PDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. (129 KB) जारी किया जाएगा. बॉण्ड को डीमैट फॉर्म में परिवर्तित भी किया जा सकता है.

निर्गम की तारीख

बॉण्ड आवेदन प्राप्त होने के सप्ताह के बाद आनेवाली सप्ताह के पहले व्यवसाय के दिन जारी किया जायेगा.

निर्गम का कैलेंडर

सावरेन गोल्ड बॉन्ड को अक्तूबर 2017 से दिसंबर 2017 तक प्रत्येक सप्ताह निम्नलिखित कैलेंडर अवधि के अनुसार जारी किया जाएगा.

क्रम सं. अभिदान की अवधि जारी करने की तारीख
1. 09-11 अक्तूबर 2017 16 अक्तूबर 2017
2. 16-18 अक्तूबर 2017 23 अक्तूबर 2017
3. 23-25 अक्तूबर 2017 30 अक्तूबर 2017
4. 30 अक्तूबर – 01 नवंबर 2017 06 नवंबर 2017
5. 06-08 नवंबर 2017 13 नवंबर 2017
6. 13-15 नवंबर 2017 20 नवंबर 2017
7. 20-22 नवंबर 2017 27 नवंबर 2017
8. 27-29 नवंबर 2017 04 दिसंबर 2017
9. 04-06 दिसंबर 2017 11 दिसंबर 2017
10. 11-13 दिसंबर 2017 18 दिसंबर 2017
11. 18-20 दिसंबर 2017 26 दिसंबर 2017
12. 26-27 दिसंबर 2017 01 जनवरी 2018

मूल्यवर्ग

बॉण्ड का मूल्यवर्ग (डिनॉमिनेशन) एक ग्राम सोना और इसके गुणांक में इकाई के रूप में होगा. बॉण्ड में निवेश की न्यूनतम सीमा एक ग्राम होगी तथा अधिकतम अभिदान सीमा वैयक्तिक के लिए 4 किलो ग्राम, हिन्दू अविभाजित परिवार(एचयूएफ़) के लिए 4 किलोग्राम और न्यास (ट्रस्ट) और ट्रस्ट जैसी संस्थाओं के लिए 20 किलोग्राम होगी जो भारत सरकार द्वारा प्रति वित्त वर्ष (अप्रैल–मार्च) समय-समय पर जारी अधिसूचना के अनुसार होगी, बशर्तें कि :

वार्षिक सीमा में विभिन्न श्रृंखला के तहत जारी किए गए बॉन्ड शामिल होंगे जो आरंभ में निम्नलिखित द्वारा जारी किए गए थे :

  • सरकारी और सेकेंडरी मार्केट से खरीदे गए तथा
  • निवेश सीमा में बैंक और अन्य वित्तीय संस्थाओं द्वारा संपार्श्विक के रूप में रखी गयी धारिता को शामिल नहीं किया जाएगा.

निर्गम मूल्य *

26 दिसंबर 2017 से 27 दिसंबर 2017 की अभिदान अवधि के लिए जारी बॉन्ड, जिसका निपटान 01 जनवरी 2017 को किया जाएगा, का अंकित मूल्य भारतीय रुपये में निर्धारित किया जाएगा जो अभिदान अवधि आरंभ होने से पिछले सप्ताह के अंतिम तीन कारोबारी दिवस अर्थात् 20-22 दिसंबर 2017 के लिए भारतीय सर्राफ और जौहरी संघ लिमिटेड (आईबीजेए) द्वारा 999 मार्क शुद्ध सोने के लिए जारी बाजार बंद भाव के साधारण औसत मूल्य के रूप में रु.2881/- प्रति ग्राम होगा.

ब्याज

बॉण्ड के अंकित मूल्य पर प्रति वर्ष 2.50 प्रतिशत की दर (स्थायी दर) से ब्याज का भुगतान किया जाएगा. ब्याज छमाही आधार पर दिया जाएगा तथा अंतिम ब्याज परिपक्वता पर मूलधन के साथ दिया जाएगा.

भुगतान विकल्प

वर्तमान में भुगतान भारतीय रुपये में केवल चेक अंतरण के माध्यम से ही स्वीकार किया जाएगा.

मोचन (रिडेम्शन)

  • बॉण्ड, गोल्ड बॉण्ड जारी होने की तारीख से आठ वर्षों के बाद चुकौती योग्य होगा. बॉण्ड के लिए समयपूर्व मोचन की अनुमति है जो जारी होने की तारीख से पांचवे वर्ष से ब्याज भुगतान की तारीख को किया जा सकता है.
  • बॉण्ड का मोचन मूल्य भारतीय रुपये में निर्धारित किया जाएगा जो रिडेम्शन की तारीख से पिछले सप्ताह में आईबीजेए लि. द्वारा अंतिम तीन कार्यदिवस हेतु 999 मार्क शुद्ध सोने के लिए जारी बाजार बंद भाव के साधारण औसत मूल्य पर आधारित होगा. प्राप्तकर्ता कार्यालय गोल्ड बॉण्ड की परिपक्वता से एक माह पहले निवेशक को परिपक्वता तारीख की सूचना देगा.

चुकौती

रिज़र्व बैंक / डिपॉजिटरी परिपक्वता से एक माह पहले निवेशक को परिपक्वता तारीख की सूचना देंगे .

कर उपाय

बॉण्ड से अर्जित ब्याज पर आयकर अधिनियम, 1961 के प्रावधानों के अनुसार आयकर लगाया जाएगा. एसजीबी के रिडेम्शन से अर्जित होने वाले पूंजीगत लाभ कर से वैयक्तिक को छूट प्राप्त है. बॉण्ड के हस्तांतरण के चलते किसी व्यक्ति को प्राप्त हुए दीर्घावधि पूंजीगत अभिलाभ पर सूचिकरण सुविधा का लाभ दिया जाएगा.

आवेदन

बॉण्ड के लिए अभिदान प्रस्तावित आवेदन फॉर्म फॉर्म-ए PDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. (105 KB) में या ऐसे ही प्रारूप में आवेदक का पूरा नाम, पता एवं सोने के ग्राम का स्पष्ट उल्लेख करते हुए किया जा सकता है. प्राप्तकर्ता कार्यालय आवेदक को फॉर्म ‘बी’ PDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. (13 KB) में पावती रसीद जारी करेगा.

शाखाएँ निवेशकों से प्रत्येक सप्ताह के सोमवार से बुधवार (दोनों दिन शामिल है) तक सामान्य बैंकिंग घंटे के दौरान आवेदन प्राप्त करेंगी. शाखाएँ यह सुनिश्चित करेंगी कि आवेदन पूर्ण रूप से भरा हुआ हो क्योंकि, अधूरे आवेदन को अस्वीकार किया जा सकता है. यदि आवश्यक हो तो आवेदकों से संबंधित अतिरिक्त जानकारी भी प्राप्त करनी चाहिए. शाखाएँ बेहतर ग्राहक सेवा प्रदान करने हेतु ऑनलाइन आवेदन की सुविधा भी उपलब्ध करा सकती हैं.

संयुक्त धारिता एवं नामांकन

दिनांक 1 दिसंबर 2007 के भारत सरकार के राजपत्र के अनुभाग 4, भाग III में प्रकाशित सरकारी प्रतिभूति अधिनियम, 2006 (2006 का 38) तथा सरकारी प्रतिभूति विनियम, 2007 के प्रावधानों के अनुसार नामांकन एवं इसका निरस्तीकरण क्रमश फॉर्म ‘डी’ एवं ‘ई’ PDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. (60 KB) में किया जाएगा.

एक से अधिक संयुक्त धारक एवं नामांकन (प्रथम धारक की) की अनुमति है. आवेदक से आवश्यक विवरण प्रचलन के अनुसार प्राप्त की जा सकती है.

संयुक्त धारिता के मामले में, 4किलो ग्राम की निवेश सीमा केवल पहले आवेदक के लिए लागू होगी.

हस्तांतरण

दिनांक 1 दिसंबर 2007 के भारत सरकार के राजपत्र के अनुभाग 4, भाग III में प्रकाशित सरकारी प्रतिभूति अधिनियम, 2006 (2006 का 38) तथा सरकारी प्रतिभूति विनियम, 2007 के प्रावधानों के अनुसार फॉर्म ‘एफ़’ PDF file that opens in new window. To know how to open PDF file refer Help section located at bottom of the site. (16 KB) में एक लिखत के हस्तांतरण के रूप में निष्पादन के जरिये बॉण्ड को हस्तांतरित किया जा सकता है.

बॉण्ड की ट्रेडिंग

भारतीय रिज़र्व बैंक द्वारा अधिसूचित तारीख से बॉण्ड ट्रेडिंग के लिए पात्र होगा. (यह नोट किया जाए कि डिपॉजिटरी के साथ केवल डीमैट फॉर्म में रखे गए बॉन्ड की ही शेयर बाज़ार में खरीद-बिक्री की जा सकती है)

अपने ग्राहक को जाने (केवाईसी) आवश्यकताएँ

अपने ग्राहक को जाने (केवाईसी) मानदंड वहीं रहेंगे जो भौतिक रूप से स्वर्ण की खरीद के लिए होते हैं. पहचान प्रमाण जैसे कि पासपोर्ट, स्थायी खाता संख्या (पैन) कार्ड, मतदाता पहचान पत्र और आधार कार्ड की आवश्यकता होगी. नाबालिग के मामले में, बैंक खाता संख्या को भी केवाईसी सत्यापन के लिए वैध दस्तावेज़ माना जा सकता है. केवाईसी का सत्यापन जारीकर्ता बैंक / एसएचसीआईएल (शील) कार्यालयों / डाकघरों / एजेन्टों द्वारा किया जायेगा. निवेशक से यह पूछताछ की जा सकती है कि क्या उसने पहले कभी एसजीबी या आईआईएनएससी–सी में निवेश किया है और क्या उनके पास निवेशक आईडी है. यदि हाँ तो केवल उसी विशिष्ट निवेशक आईडी के तहत निवेश किया जा सकता है.

रद्द करना

आवेदन के निरस्तीकरण की अनुमति निर्गम के बंद होने तक अर्थात् सब्स्क्रिप्शन के विशेष सप्ताह के दौरान के बुधवार तक होगी. गोल्ड बॉन्ड खरीदने के लिए प्रस्तुत किए गए आवेदन के आंशिक निरस्तीकरण की अनुमति नहीं होगी. आवेदन निरस्त होने पर आवेदित राशि पर कोई भुगतान नहीं किया जाएगा.

धारिता प्रमाणपत्र की प्रिंटिंग

धारिता प्रमाण पत्र की प्रिंटिंग रंगीन ए4 साइज़, 100 जीएसएम पेपर पर की जाएगी.

भारत भर की सभी शाखाएँ बॉन्ड जारी करने के लिए अधिकृत हैं.

*- बॉन्ड का मूल्य भारतीय रुपये में निर्धारित किया जाएगा जो अभिदान अवधि आरंभ होने से पिछले सप्ताह के अंतिम तीन कारोबारी दिवस के लिए भारतीय सर्राफ और जौहरी संघ लिमिटेड (आईबीजेए) द्वारा 999 मार्क शुद्ध सोने के लिए जारी बाजार बंद भाव के साधारण औसत मूल्य पर आधारित होगा.

अंतिम देखा गया पेज

X
Back to Top